October 15, 2021

Mookhiya

Just another WordPress site

New Mookhiya election date announced.( Click Here )

पासवान की पहली बरसी में पारस और चिराग होंगे साथ-साथ

पिछले तीन महीनों से चाचा (पशुपति कुमार पारस) और भतीजे (चिराग पासवान) के बीच लगातार तल्ख होती राजनीतिक दुश्मनी, शुक्रवार को रिश्तों की फुहार से ठंडी सी दिखी। चाचा ने भतीजे का आग्रह कबूला। कहा-’मैं अपने भाई रामविलास पासवान की पहली बरसी में शामिल होऊंगा।’ चिराग, इसे मेगा इवेंट बनाने की तैयारी में हैं।

प्रधानमंत्री से लेकर सोनिया गांधी, नीतीश कुमार, लालू प्रसाद … यानी तमाम बड़े लोगों को न्योता दिया हुआ है। उनकी इस गेस्ट लिस्ट में पारस तथा दूसरे चचेरे भाइयों का भी नाम था। ‘कौन आएगा, कौन नहीं’ की चर्चा की पंचलाइन यही थी कि ‘पारस आएंगे कि नहीं?’ आएंगे। रामविलास पासवान और उनके भाईयों का आपसी प्यार, राजनीतिक-सामाजिक हलके में मिसाल सी रही।

इसके ढेरों रोचक प्रसंग हैं, लंबी दास्तान है। यह जोड़ी रामचंद्र पासवान के रूप में टूटी। वे नहीं रहे। दो भाई बचे। लेकिन, रामविलास पासवान के चलते इसका स्वरूप अंदरूनी ही रहा। जून के दूसरे हफ्ते में जब इस राजनीतिक परिवार का तिनका-तिनका राजनीतिक तौर पर बिखरा और लोजपा में एक तरह से पूरी तरह अकेले कर दिए गए चिराग के कारनामे बताए गए, तो साफ हुआ कि घरेलू व इससे जुड़ी दलीय तनातनी की उम्र बहुत लंबी थी। दोतरफा आरोप-प्रत्यारोप ने चाचा-भतीजे के बीच का लगभग सबकुछ खत्म कर दिया। लेकिन खून बोला।

यह पहला मौका होगा, जब रामविलास पासवान की बरसी के मौके पर पूरा पासवान परिवार एकसाथ होगा; आगंतुकों की मेजबानी करेगा। पारस ने कहा भी कि ‘यह मेरा अपना फंक्शन है। परिवार का काम है। चिराग कार्ड लेकर खुद आए थे। रामविलास पासवान मेरे भी सबकुछ थे। मैं आज जो कुछ भी हूं, वह उन्हीं आशीर्वाद का है। हां, मुझे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भी आशीर्वाद है। रामविलास जी, हमारे बड़े भाई थे। हमारे आदर्श थे। मैं निश्चित रूप से जाऊंगा। मैं 12 को भैया की बरसी में शामिल रहूंगा।’

राजनीतिक रार बनाम पारिवारिक मामला
‘तो क्या अब चिराग से आपके मतभेद खत्म हो जाएंगे’, के जवाब में पारस ने कहा-’राजनीति एक चीज है और पारिवारिक मामला दूसरी चीज है। दोनों, दो अलग चीजें हैं।’ यानी विरासत की जंग जारी रहेगी। खुद पारस, रामविलास पासवान की पहली पुण्यतिथि (8 अक्टूबर) को मेगा इवेंट बनाने की तैयारी में हैं। बोले-’मैं इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री, केंद्रीय गृह मंत्री, मुख्यमंत्री और सभी दलों के नेताओं को आमंत्रित करूंगा। चिराग को भी बुलाऊंगा।