December 8, 2021

Mookhiya

Just another WordPress site

New Mookhiya election date announced.( Click Here )

चुनाव में अनियमितता को लेकर मुखिया प्रत्याशी ने लगाए आरोप

प्रखंड बगहा-2 की नयागांव रमपुरवा पंचायत में हुए पंचायती चुनाव में आए नतीजे कांटे की टक्कर दर्शा रहे हैं। 33 वोटों के अंतर से मुखिया प्रत्याशियों की जीत हार हुई है। हारी हुई प्रत्याशी किरण देवी ने जिला मुख्यालय में हुई मतगणना में भारी अनियमितता की शिकायत करते हुए मुख्यमंत्री कार्यालय बिहार सरकार, मुख्य निर्वाचन आयोग पटना, जिला निर्वाचन पदाधिकारी बेतिया, उप सचिव राज्य निर्वाचन आयोग पटना, मुख्य सचिव बिहार सरकार पटना, अनुमंडल पदाधिकारी बगहा तथा प्रखंड निर्वाचन पदाधिकारी बगहा-2 को पत्र लिखा है। लिखे गए पत्र के अनुसार रामपुर नयागांव पंचायत की प्रत्याशी किरण देवी ने मतगणना के समय प्रत्याशी विशेष के शह पर भेदभाव का आरोप लगाया है।

इस संबंध में नयागांव रामपुर पंचायत की मुखिया प्रत्याशी जिन्हें 33 वोटों से पराजय मिली है किरण देवी ने बताया कि उन्होंने न्याय की गुहार लगाते हुए प्रखंड से लेकर राजधानी तक सभी संबंधित पदाधिकारियों को पत्र लिखा है। मतगणना के समय मतगणना कक्ष में ईवीएम का सील पूर्व में ही तोड़ दिया गया था। और मतगणना कर ली गई थी। जबकि उनके मतगणना अभिकर्ता बार-बार मतगणना अधिकारियों से अपने पंचायत की मतगणना के बारे में पूछ रहे थे तथा संपर्क में बने हुए थे। उस समय मतगणना अधिकारियों द्वारा बताया जा रहा था कि अभी दूसरी पंचायतों की मतगणना की जा रही है। इसी बीच उनकी पंचायत में सील ईवीएम को कब तोड़ दिया गया पता ही नहीं चला।

इस संबंध में मतगणना में सम्मिलित पदाधिकारियों से पूछे जाने पर कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला। आनन-फानन में 33 वोटों से उन्हें हरा दिया गया। जबकि ईवीएम का सील उनके सामने टूटना उनका नैतिक अधिकार था। जिसका पालन नहीं किया गया। उनके द्वारा पुनः मतगणना कराने के लिए संबंधित अधिकारियों के पास आवेदन दिया गया। मगर पदाधिकारियों द्वारा टालमटोल किया जाने लगा। बार-बार आग्रह किया गया कि पुनः मतगणना हो मगर पदाधिकारियों ने एक नहीं सुनी तथा प्रशासन के सहारे जबरदस्ती मतगणना कक्ष से बाहर निकाल दिया गया। अधिकारियों के रवैया से ऐसा महसूस हुआ कि पंचायत के मतदाताओं का सहयोग तो मिला मगर पदाधिकारियों ने हरा दिया। मुखिया प्रत्याशी ने कहा कि निर्वाचन आयोग पटना दोबारा पंचायत में मतदान कराए। उनके पंचायत के लोगों का नैतिक अधिकार है कि वह जिसको चुने वही मुखिया बने।