October 14, 2021

Mookhiya

Just another WordPress site

New Mookhiya election date announced.( Click Here )

विपक्ष के निशाने पर CM नीतीश कुमार, बिहार को विशेष दर्जा देने की मांग पर यू-टर्न से गरमाई सियासत

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) अभी तक लगातार बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग करते रहे थे। हाल-हाल तक जनता दल यूनाइटेड (JDU) की तरफ से पार्टी के संसदीय दल के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने भी केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Government) से बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग उठाई थी। विपक्ष (Opposition) भी यह मांग करता रहा है। लेकिन इस मुद्दे पर अब नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की सरकार के यू-टर्न से सियासत गरमा गई (Politics Heats-up) है।

बिजेंद्र प्रसाद यादव ने कहा है कि नीतीश सरकार अब केंद्र की पीएम मोदी सरकार से बिहार को विशेष दर्जा देने की मांग नहीं करने जा रही है। बदले में वह हर क्षेत्र में विशेष सहायता की मांग करेगी। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार का यह यू-टर्न (U-Turn of Nitish Government) इसलिए है कि उनकी सरकार मांग करते-करते थक गई है। विजेंद्र यादव के अनुसार केंद्र सरकार ने बिहार के विकास के मूल्यांकन में आंकड़ों का सही इस्तेमाल नहीं किया।

जेडीयू के यू-टर्न से गरमाई सियासत

अभी तक बिहार को विशेष राज्‍य का दर्जा देने की मांग करते रहे जेडीयू के इस यू-टर्न के कारण जो भी हों, इससे सियासत तो गरमानी हीं है। महागठबंधन (Mahagathbandhan) के घटक दल इसके लिए मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार को निशाने पर ले रहे हैं तो सत्‍ताधारी भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने राज्‍य सरकार के स्‍टैंड का स्‍वागत किया है।। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पर कुर्सी बचाने के लिए समझौते करने का आरोप लगाते हुए तेजस्‍वी ने तंज कसा है कि जो मुख्‍यमंत्री पटना विश्‍वविद्यालय (Patna University) को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा नहीं दिला सके, वे भला बिहार को विशेष राज्‍य का दर्जा कैसे दिला सकेंगे? जेडीयू पर हमलावर होते हुए उन्‍होंने लिखा कि राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) की रीढ़ की हड्डी सीधी है, इसलिए जो हम कहते हैं, वह करते हैं।

कांग्रेस ने बताया जन भावना से खिलवाड़

कांग्रेस (Congress) के विधान परिषद सदस्‍य प्रेमचन्द्र मिश्रा ने जेडीयू के बदले स्‍टैंड को जन भावना से खिलवाड़ बताया है। कांग्रेस पहले से ही मानती रही है कि जेडीयू व बीजेपी बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने को लेकर गंभीर नहीं हैं। नीतीश कुमार ने इस मुद्दे पर एक दशक से बिहार की जनता को गुतराह किया है।