October 22, 2021

Mookhiya

Just another WordPress site

New Mookhiya election date announced.( Click Here )

तीसरी लहर के खतरे की आशंका के कारण नहीं लगेगी पटना में आज वैक्सीन

कोरोना की तीसरी लहर के खतरे के बीच पटना में गुरुवार को वैक्सीनेशन में बड़ा ब्रेक लगा है। 24 घंटे के लिए सभी विशेष और सामान्य टीकाकरण केंद्र को बंद किया गया है। अब शुक्रवार से रविवार तक वैक्सीनेशन का काम होगा। अब तक पटना में 42 लाख 35 हजार 843 लोगों का वैक्सीनेशन हुआ है, जिसमें दोनों डोज लेने वालों की संख्या मात्र 12 लाख 47 हजार 713 ही है, जबकि 29 लाख 88 हजार 130 लोगों ने पहला डोज लिया है। कोरोना टीकाकरण में तेजी के बाद अचानक से ब्रेक के कारण रफ्तार धीमी पड़ जा रही है।


अब तक बिहार में 4 करोड़ 29 लाख 28 हजार 375 लोगों को कोरोना का टीका लगा है, जिसमें पहली डोज लेने वालों की संख्या 3 करोड़ 55 लाख 40 हजार 837 है। अब तक 73 लाख 87 हजार 538 लोगों को कोरोना की दोनों डोज लग चुकी है। दूसरी डोज को लेकर स्वास्थ्य विभाग की तरफ से पूरी ताकत झोंकी गई है, क्योंकि पहली डोज लेने वालों की तुलना में दूसरी डोज लेने वालों की संख्या काफी कम है। इसके लिए जिला से लेकर प्रखंड स्तर पर जागरूकता के साथ प्रचार-प्रसार पर जोर दिया जा रहा है। सरकार ने एक अधूरा दो से पूरा का स्लोगन भी दिया है, जिससे लोगों को वैक्सीनेशन सेंटर तक खींचा जा सके। इसमें नुक्कड़ नाटक के साथ जागरूकता कार्यक्रम भी कराए जा रहे हैं। सरकार की तरफ से विशेष कैंप और मेगा ड्राइव भी चलाया जा रहा है, जिससे वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाई जा सके।

बिहार में बुधवार को 24 घंटे में 145130 लोगों की कोरोना जांच कराई गई है, जिसमें 19 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। केवल पटना में ही 7 संक्रमित पाए गए हैं, जबकि भोजपुर और लखीसराय में दो-दो मामले मिले हैं। जहानाबाद में 3 और पूर्णिया में मात्र एक संक्रमित पाया गया है। अब तक बिहार में कुल 7 लाख 25 हजार 784 लोग कोरोना संक्रमित हुए हैं, इसमें 7 लाख 16 हजार 62 लोगों ने कोरोना को मात दी है, जबकि 9 हजार 657 लोग कोरोना की लड़ाई में जिंदगी की जंग हार चुके हैं। अब बिहार में कोरोना के एक्टिव मामलों की संख्या मात्र 64 ही है, जबकि रिकवरी रेट 98.66 प्रतिशत हो गया है। बात पटना की करें तो कुल संक्रमितों की संख्या 1 लाख 46 हजार 916 है, जिसमें 1 लाख 44 हजार 566 लोगों ने कोरोना को मात दी है। अब तक पटना में 2333 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि एक्टिव मामलों की संख्या मात्र 17 ही है।